दालचीनी के फायदे तथा दालचीनी का सही इस्तेमाल कैसे करे।

दालचीनी के फायदे तथा दालचीनी का सही इस्तेमाल कैसे करे।

दालचीनी के फायदे के कारण दालचीनी का प्रयोग भारत में बहुत लंबे समय से होता आ रहा हैं। इसका प्रयोग मसाले के रूप में किया जाता है। दालचीनी का पौधा 10-15मी० ऊँचा होता हैं। भारत मे यह दक्षिणी भारतीय क्षेत्र,असम, सिक्किम आदि जगहों में पाया जाता हैं। इसका वर्णन प्राचीन ग्रँथों में भी हुआ है। दालचीनी के पौधें से एक बार इसकी छाल निकलने से यह पौधा समाप्त हो जाता हैं। बाद में यह या बीज से उग आता हैं या इसकी कलमो से यह उग आता हैं।

Dalchini plant

दालचीनी का प्रयोग केवल मसाले के ही रूप में ही नही होता बल्कि यह एक औषधी भी हैं।अनेक बीमारियों में इसका प्रयोग किया जाता हैं।अब हम दालचीनी के फायदे के बारे में पढेंगे:

दालचीनी के फायदे:

  • पाचनशक्ति में दालचीनी का फायदे:

    सभी लोगो मे पेट सम्बन्धी कुछ न कुछ बीमारी होती है।इन बीमारियों में शामिल हैं गैस व कब्ज। दालचीनी के पाउडर को एक गिलास में घोलकर सुबह साय लेने से पेट की कब्ज व गैस में आराम मिलता हैं।

  • सिरदर्द में दालचीनी का फायदा:

    सिरदर्द में दालचीनी के इस्तेमाल से काफी फायदा मिलता है। ज्यादा स्ट्रेस लेने से कई बार सिर दर्द होने लगता हैं और यह कई दिन तक लगातार हो सकता हैं। इसके लिए दालचीनी के पाउडर का पेस्ट बनाकर माथे पर लगाने से सिरदर्द ठीक हो जाता हैं।

  • त्वचा के लिए दालचीनी का फायदा:

    आजकल इतनी केमिकल युक्त क्रीम चली हुई हैं कि मुँह पर जल्दी ही झुर्रियां होने लगती हैं व कील मुँहासे होने लगते जो कि बहुत भद्दे लगने लगते है इनसे पीछा छुड़ाने के लिए दालचीनी के पेस्ट को नींबू के साथ मिलाकर लगातार लगाने से मुंह साफ हो जाता हैं।

  • मुँह की बदबू को खत्म करने के लिये दालचीनी का फायदे:

    मुह की बदबू का कारण पायरिया या ब्रश न करना हो सकता हैं। इसके लिए हमे दालचीनी के एक छोटे से टुकड़े को मुह में रखना चाहिए जिससे मुँह की दुर्गंध कम हो जाती हैं।

  • कैंसर के खतरे को कम करने में दालचीनी के फायदे:

    कैंसर इतनी घातक बीमारी हो चुकी हैं कि आज इसका नाम लेने से भी डर लगने लगा हैं। इस बीमारी के खतरे को कम करने के लिये हमे लगातर 2 महीने तक एक गिलास गर्म पानी मे दालचीनीं के पाउडर को शहद के साथ पीने से कैंसर जैसी बीमारी से आराम पाया जा सकता हैं।

  • घाव व सूजन में दालचिनी का फायदा:

    आम जिंदगी में थोड़ी बहुत तो चोट हमे लग ही जाती हैं और उसी समय पर हम डॉक्टर के पास भी नही जा पाते।इस स्थिति में हमे दालचिनी के पाउडर को उस जगह पर लगा लेना चाहिए जो कि खून का थक्का बनाने में सहायक है।

  • मानसिक तनाव कम करने के लिए दालचीनी के फायदे:

    इस भीड़भरी जिंदगी में रोजाना दफ्तर जाना और आना मानसिक तनाव का एक बहुत बड़ा कारण है। इससे बचने के लिए हमे दालचिनी के पाउडर को व इसके तेल को मिलाकर कान के पीछे लगाने से राहत मिलती है।

यह भी पढ़े

अदरक खाने के फायदे तथा नुकसान

अभी हमने दालचिनी के प्रयोग के बारे में पढ़ा कि दालचिनी का हमारे जीवन मे क्या फायदा है व इसको किन बीमारियों में किस तरह प्रयोग किया जाता हैं। इसके प्रयोगों के बारे में हम अब पढेंगे:

दालचीनी के फायदे

दालचीनी के प्रयोग

  • चाय में डालकर दालचिनी का प्रयोग:

    खाँसी जुखाम में दालचीनी को चाय में डालकर पीने से ठंड में आराम मिलता हैं और खासी जुखाम दूर हो जाता हैं।

  • मसालो में डालकर दालचिनी का इस्तेमाल:

    सब्जी में दालचीनी को डालकर प्रयोग करने से खाना ही सुस्वादु नही बन जाता बल्कि अनेक रोगों को भिदुर किया जा सकता हैं जैसे डायबिटीज,वजन व पाचनशक्ति आदि।

  • दालचिनी के तेल का प्रयोग:

    दालचीनी के तेल की मालिश करने से जोड़ो का दर्द भी कम हो जाता हैं व सिर पर इसकी मालिश करने याददाश्त भी बढ़ जाती हैं।

  • dalchini ke fayde
  • दालचीनी के पॉवडर का प्रयोगः

    दालचीनी के पावडर को एक गिलास गर्म पानी मे मिलाकर पीने से कब्ज व पाचनशक्ति ठीक हो जाती हैं।

  • दूध में मिलाकर दालचीनी का प्रयोग:

    दूध में दालचिनी के पाउडर को मिलाकर पीना चाहिए जो कि गले दर्द व चोट में बहुत फायदेमंद है।इसके सेवन से घाव जल्दी भर जाता हैं।

यह भी पढ़े

लौंग के फायदे तथा लौंग का सही इस्तेमाल कैसे करे

अभी हमने दालचीनी के प्रयोग के बारे में पढ़ा। दालचिनी को मसालो की रानी भी कहा जाता हैं। दालचीनी को सब्जी में डालने से खाने का स्वाद बढ़ जाता हैं। दालचीनी को हजारों सालों से प्रयोग में लाया जा रहा हैं। प्राचीन काल मे दालचिनी की क़ीमत सोने से भी ज्यादा होती थी लेकिन अब यह आसानी से मिल जाती हैं। दालचिनी की पत्तियों का प्रयोग जिसे हम तेजपत्ता कहते है मसालो में किया जाता हैं।

Leave a Reply

Close Menu