वजन कम करने के लिए घरेलू उपाय तथा भोजन का प्रयोग

इस भागदौड़ भरी जिंदगी सभी लोग अपना वजन कम करने के लिए कुछ न कुछ करते रहते हैं। लेकिन ऑफिस से आने के बाद थोड़ा समय शरीर को आराम भी देना पड़ता हैं जिससे हम लोग जिम ,वाकिंग, एक्सरसाइज आदि करने के लिए रोज सोचते तो हैं लेकिन कर नही पाते। ऐसे में हम खुद भी परेसान रहने लगते हैं हमें अपने आप मे मोटापा महसूस होने लगता हैं जो की दुसरो को देखने मे भी गन्दा लगने लगता हैं। मोटापा अपने आप मे एक बीमारी बनती जाती हैं जो कि बहुत सी बीमारियो का कारण बनता…

Continue Reading
नारियल पानी के फायदे तथा नुकसान की पूरी जानकारी।

नारियल पानी के फायदे तथा नुकसान की पूरी जानकारी।

नारियल पानी पीना हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होता हैं। नारियल पानी मे पोटैशियम,मेग्नीज, सोडियम, प्रोटीन ,फाइबर व विटामिन C भी पाया जाता है जो हमारी सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। नारियल समुद्री इलाको में उगते हैं उदाहरणतया -मुम्बई, कोलकाता, चेन्नई, उड़ीसा, गोआ, केरल। यहा के लोग नारियल को अपने खाने में शामिल करते हैं और ये लोग नारियल को अपने घरों में व खेतो में भी उगाते हैं। हिंदुओ में तो हर शुभारंभ में नारियल का प्रयोग किया जाता हैं तथा नारियल को शुभ माना जाता हैं। नारियल भी दो तरह…

Continue Reading
इलायची के फायदे तथा इलायची के खाने का सही उपयोग।

इलायची के फायदे तथा इलायची के खाने का सही उपयोग।

भारत मे इलायची को मसालो की रानी कहा जाता हैं क्योकि खाने में इलायची के फायदे भी अनेक है। यह दक्षिणी भारत मे पाई जाती हैं। इलायची दो प्रकार की होती हैं बड़ी इलायची व छोटी इलायची। छोटी इलायची का प्रयोग ज्यादा होता हैं। इलायची के पौधे की ऊँचाई 8-10 फ़ीट होती हैं। इलायची के पौधे से इलायची लगभग 3 साल बाद प्राप्त होने लगती हैं। इलायची में बहुत से पोषकतत्व पाए जाते हैं जैसे आयरन,विटामिन C, केल्सियम, मैग्नीशियम आदि। इलायची हर घर मे पाई जाती हैं इसका उपयोग न केवल मसालो में किया जाता है बल्कि…

Continue Reading
दालचीनी के फायदे तथा दालचीनी का सही इस्तेमाल कैसे करे।

दालचीनी के फायदे तथा दालचीनी का सही इस्तेमाल कैसे करे।

दालचीनी के फायदे के कारण दालचीनी का प्रयोग भारत में बहुत लंबे समय से होता आ रहा हैं। इसका प्रयोग मसाले के रूप में किया जाता है। दालचीनी का पौधा 10-15मी० ऊँचा होता हैं। भारत मे यह दक्षिणी भारतीय क्षेत्र,असम, सिक्किम आदि जगहों में पाया जाता हैं। इसका वर्णन प्राचीन ग्रँथों में भी हुआ है। दालचीनी के पौधें से एक बार इसकी छाल निकलने से यह पौधा समाप्त हो जाता हैं। बाद में यह या बीज से उग आता हैं या इसकी कलमो से यह उग आता हैं। दालचीनी का प्रयोग केवल मसाले के ही रूप में…

Continue Reading
लौंग के फायदे तथा लौंग के प्रयोग का सही तरीका

लौंग के फायदे तथा लौंग के प्रयोग का सही तरीका

भारत मे लौंग को मसाले के रुप में प्रयोग किया जाता है। यह बहुत ही उपयुक्त औषधि भी हैं तथा लौंग के फायदे भी बहुत है। लौंग के पौधे को क्लोव भी कहते हैं। यह एक सदाबहार पेड़ हैं। लौंग के पेड़ को फल देने में पांच छ: वर्ष लग जाते हैं। पहले पेड़ पर फूल लगते हैं फिर फूलो का रंग हल्का गुलाबी हो जाता है। कई बार तो फूलो को ही तोड़ लिया जाता हैं और उनको धूप में सूखा कर लौंग प्राप्त की जाती हैं। पौधो से सीधे लौंग प्राप्त करने से कई बार…

Continue Reading
Close Menu